Subscribe Us

आईएएस-आरएएस की तर्ज पर नहीं कराई जाए पटवारी 2019 भर्ती, एक परीक्षा से हो चयन

जयपुर

चार साल पहले प्री और मुख्य परीक्षा से हुई थी भर्ती,विवादों के कारण दो साल तक नही मिली थी नियुक्ति
एजुकेशन रिपोर्ट.जयपुर
राज्य सरकार ने पटवारी की 3835 पदों पर भर्ती को मंजूरी दी है। इसके साथ ही बेरोजगारों ने भर्ती में एक परीक्षा की मांग उठाना शुरू कर दिया है। 4 साल पहले 2015 में पटवारी भर्ती में आई ए एस -आर ए एस की तर्ज पर राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड ने प्री और मुख्य दो परीक्षाओं का आयोजन किया था दो परीक्षाओं से भर्ती विवादों में आ गई थी और प्रक्रिया पूरा होने में 2 साल लग गए 

बेरोजगारों ने चयन बोर्ड से भर्ती  एक परीक्षा से कराने की मांग की है बोर्ड ने 2015 में पटवारी के 44 पदों के लिए प्रक्रिया शुरू की थी इसमें 8 लाख आवेदन आए थे, अब चयन बोर्ड राजस्व मंडल से नई भर्ती के लिए संशोधित अभ्यर्थना का इंतजार कर रहा है, पिछले साल राजस्व मंडल ने 2000 पदों के लिए अभ्यर्थना RSSB को भेजी थी लेकिन आरक्षण मामले के कारण बोर्ड ने राजस्व मंडल को लोटा दो अब सरकार ने 1835 पदों की और बढ़ोतरी कर दी है और कुल पद 3835 हो गए हैं
पटवार भर्ती के पदों में बढ़ोतरी से जुडी विस्तृत जानकारी के लिए इस लिंक पर जाए

                   clickhere
 2015 में पटवारी भर्ती में यह हुआ था विवाद:-
 2015 में प्री परीक्षा में category-wise 15 गुना अभ्यर्थियों को मुख्य परीक्षा के लिए पात्र घोषित किया जाना था, 4400  पदों के लिए 66120 अभ्यर्थी मुख्य परीक्षा के लिए पात्र घोषित हुए थे जनरल की कटऑफ अन्य केटेगरी से कम जाने के कारण मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा आखिर जनरल की कट ऑफ तक के अन्य केटेगरी के अभ्यर्थियों को मुख्य परीक्षा में शामिल होने की छूट मिली इस कारण अभ्यर्थियों की संख्या 56592 और बढ़ गई थी और मुख्य परीक्षा के लिए 122692 अभ्यर्थी पात्र हो गए
पटवार के पदों पर भर्ती के प्रेस नॉट की पीडीऍफ़ को डाउनलोड करने के लिए इस लिंक पर जाए 

                   clickhere
दो परीक्षाओं से अभ्यर्थियों पर आता है आर्थिक भार:-
 दो परीक्षाओं के आयोजन से अभ्यर्थियों को ना केवल भर्ती परीक्षा के लंबा खींचने से नुकसान होता है बल्कि उन पर भी आता है उनको दोनों भर्ती परीक्षाओं की तैयारी के लिए अलग-अलग समय और पैसा खर्च करना पड़ता है कई अभ्यर्थी ऐसे हैं जो और मुख्य परीक्षा की तैयारी हजारों रुपए खर्च कर देते हैं एक ही परीक्षाओं की तैयारी का भी मौका मिल जाएगा साथ ही आर्थिक भार भी नहीं पड़ेगा
दो परीक्षाओ का मतलब नही:-
पटवारी भर्ती में फ्री और मुख्य परीक्षा कराने का औचित्य नहीं है दो परीक्षाएं होगी तो विवाद अधिक होंगे चयन बोर्ड को चाहिए कि पटवारी भर्ती में एक ही परीक्षा हो और उसकी मेरिट परिचय किया जाए ताकि अभ्यर्थियों को नौकरी के लिए इंतजार नहीं करना पड़े हम इसके लिए सीएम चयन बोर्ड में राजस्व मंडल को पत्र लिखेंगे
दीपेंद्र शर्मा
अध्यक्ष ,राजस्थान बेरोजगार संघ 
हमें अभ्यर्थना नहीं मिली है:-
राजस्व मंडल से अभी हमें पटवारी भर्ती की अभ्यर्थना प्राप्त नहीं हुई है, अभी अपना प्राप्त होने के बाद परीक्षा के आयोजन के मामले में सक्षम स्तर पर चर्चा की जाएगी और अभ्यर्थियों के हित में उचित निर्णय लिया जाएगा 
डॉ बीएल जाटावत 
अध्यक्ष राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड

Post a comment

0 Comments